101 SADABAHAR KAHANIYAN

181.0 9.0


  • Pustak Ka Naam / Name of Book: 101 SADABAHAR KAHANIYAN
  • Pustak Ke Lekhak / Author of Book: Deep Trivedi
  • Pustak Ki Bhasha / Language of Book: हिंदी / Hindi
  • Pustak Ka Akar / Size of Ebook : 1.54 MB
  • Pustak Mein Kul Prashth / Total pages in ebook: 135
  • Pustak Download Sthiti / Ebook Downloading Status: Best

Share it:

‘101 सदाबहार कहानियां’ में सर्वकालीन सर्वश्रेष्ठ कहानियां हैं, जो स्पीरिच्युअल सायको-डाइनैमिक्स के पायनियर और बेस्टसेलर्स ‘मैं मन हूँ’ और ‘मैं कृष्ण हूँ’ के लेखक दीप त्रिवेदी ने लिखी है।

मनुष्यजीवन को गहराई से समझने और समझाने वाले दीप त्रिवेदी ने इस बार कहानियों के जरिए लोगों को जीवन परिवर्तित कर देने वाली फिलॉसोफीज का तोहफा दिया है। सरलतम भाषा में लिखी गई ये कहानियां पाठकों को महापुरुषों, वैज्ञानिकों और दार्शनिकों की रोमांचक दुनिया की सैर पर ले जाती हैं। इन कहानियों में मनुष्यजीवन के हर पहलू को शामिल किया गया है जैसे प्रेम, क्रोध, लोभ, अहंकार, इंफीरियोरिटी कॉम्प्लेक्स, इत्यादि… जिससे इन्हें पढ़ने वालों को न सिर्फ मजा आएगा बल्कि इससे उनके जीवन में आवश्यक सकारात्मक परिवर्तन भी आएगा।

महान दार्शनिकों जैसे सोक्रेटिज और रामकृष्ण परमहंस का ज्ञान हो या फिर मुल्ला नसीरुद्दीन की मजेदार बातें और क्राइस्ट की अनमोल शिक्षा हो या फिर वॉल्ट डिज्नी का सपना या हेलेन केलर की विजयी जीवन-यात्रा – ये कहानियां न सिर्फ सभी उम्र के बच्चों के लिए प्रेरणादायक हैं, बल्कि उनके माता-पिता एवं टीचर्स के लिए भी उतनी ही उपयोगी हैं। इस किताब की सबसे खास बात कहानियों के सार में निहित है जिसमें दीप त्रिवेदी कहानी के गहरे सायकोलॉजिकल और फिलॉसोफिकल पहलुओं को बड़ी ही सरलता से समझाते हैं ताकि बात पाठकों के मन की गहराइयों में आसानी से उतर जाए और वे जीवन में सफलता की ऊंचाइयां भी छू सकें।

यह किताब अंग्रेजी, गुजराती और मराठी में भी उपलब्ध है।

‘101 सदाबहार कहानियां’ में सर्वकालीन सर्वश्रेष्ठ कहानियां हैं, जो स्पीरिच्युअल सायको-डाइनैमिक्स के पायनियर और बेस्टसेलर्स ‘मैं मन हूँ’ और ‘मैं कृष्ण हूँ’ के लेखक दीप त्रिवेदी ने लिखी है। मनुष्यजीवन को गहराई से समझने और समझाने वाले दीप त्रिवेदी ने इस बार कहानियों के जरिए लोगों को जीवन परिवर्तित कर देने वाली फिलॉसोफीज का तोहफा दिया है। सरलतम भाषा में लिखी गई ये कहानियां पाठकों को महापुरुषों, वैज्ञानिकों और दार्शनिकों की रोमांचक दुनिया की सैर पर ले जाती हैं। इन कहानियों में मनुष्यजीवन के हर पहलू को शामिल किया गया है जैसे प्रेम, क्रोध, लोभ, अहंकार, इंफीरियोरिटी कॉम्प्लेक्स, इत्यादि... जिससे इन्हें पढ़ने वालों को न सिर्फ मजा आएगा बल्कि इससे उनके जीवन में आवश्यक सकारात्मक परिवर्तन भी आएगा। महान दार्शनिकों जैसे सोक्रेटिज और रामकृष्ण परमहंस का ज्ञान हो या फिर मुल्ला नसीरुद्दीन की मजेदार बातें और क्राइस्ट की अनमोल शिक्षा हो या फिर वॉल्ट डिज्नी का सपना या हेलेन केलर की विजयी जीवन-यात्रा – ये कहानियां न सिर्फ सभी उम्र के बच्चों के लिए प्रेरणादायक हैं, बल्कि उनके माता-पिता एवं टीचर्स के लिए भी उतनी ही उपयोगी हैं। इस किताब की सबसे खास बात कहानियों के सार में निहित है जिसमें दीप त्रिवेदी कहानी के गहरे सायकोलॉजिकल और फिलॉसोफिकल पहलुओं को बड़ी ही सरलता से समझाते हैं ताकि बात पाठकों के मन की गहराइयों में आसानी से उतर जाए और वे जीवन में सफलता की ऊंचाइयां भी छू सकें। यह किताब अंग्रेजी, गुजराती और मराठी में भी उपलब्ध है।

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.